Pages

सिकंदर


सिकंदर मरा जिस् नगर से उसकी अर्थी निकाली गई । वहा के लोगो ने देखा की अर्थी मे से सिकंदर के हाथ बाहर रखे गये थे । सबने पुछा तो पता चला की सिकंदर ने मरनेसे पहेले कहा था मेरे हाथ बाहर रखना ताकि लोगो को पता चले के में भी खली हाथ जा रहा हु ।


क्या कोइ एसी संपदा नहीं हे जिसे मृत्यु मिटा न सके

किसी भी सम्पदा को मृत्यु की कसोटी पर रखना और देखना ये सोना हे या मिटी

जो मृत्यु के बाद बचता हे वो तुम हो

3 comments:

  1. बहुत ही अच्छी शिक्षा देती कहानी है ये...!सभी को खाली हाथ ही जाना है..सच है..

    ReplyDelete
  2. क्या लेकर आया था क्या लेकर जायेगा

    अच्छा लिखा है आपने , साथ ही आपका चिटठा भी खूबसूरत है । यूँ ही लिखते रहे ।

    हमें भी उर्जा मिलेगी ,

    धन्यवाद
    मयूरअपनी अपनी डगर

    ReplyDelete
  3. well done , Keep it up, best of luck

    ReplyDelete

<!--Can't find substitution for tag [blog.pagetitle]-->