Pages

जागरूकता





राजा ने राजकुमार को तलवार बाजी सिखाने केलिए एक गुरु के पास भेजा वो गुरु भी अजिब था दरवाजे पर लिखा था की वह जागरूकता सिखाता हे । तो राजकुमार ने सोचा की केसा गुरु मिला हे जो जागरूकता सिखाता हे । में तो यहाँ तलवार बाजी सिखाने आया हु । दो तीन दिन बीत गए तो राजकुमार ने गुरु से पूछा कब आप तलवार बाजी सिखाना शुरु करोगे । गुरुने कहा की जल्दी मत कर ना । एक सप्ताह केबाद अचानक एक दिन लकडी की तलवार गुरु ने से पीछे से वार किया । और कहा के आज से शिक्षा शुरु अब तैयार रहेना । राजकुमार कूछ समज नहीं पाया.
अब रोज हमला होने लगा राजकुमार को गुरु पागल मालूम पड़ने लगा वो सोचने लगा के में यहाँ पे तलवार बाजी सिखाने आया पर ये क्या कर रहा हे . अब वो दिन में थोडा संभल कर रहे ने लगा नजाने वो पागल कब आजाये । उसकी सारी चेतना हमले से बचे ने लगी
तिन महीने हो गए अब वो कोय भी हमला करे तो वो रोक लेता तो गुरु ने कहा अब रात में भी तेयार रहेना फिर से रात में मार पड़ने लगी धीरे धीरे रात कोभी बोध रहेने लगा नीद में भी रक्षा होने लगी अब तो गुरु के पैरो की आवाज तक सुनाय देने लगी
छे महीने समाप्ते हुए राजकुमार ने सोचा की रोज गुरु मुजपे हमला करता हे तो में
क्यूना उसपे हमला करू .........
तभी गुरुने कहा के मुझ पे हमला मत कर ना राजकुमार को बड़ा आश्चर्य हुआ के मैने तो अभी सिर्फ सोचा था और आपको केसे पता चल गया गुरुने कहा थोड़े महीने तू ठहेर तुभी विचार पढ़ने लगेगा एक सालबाद जब राजकुमार की विदाय का दिन था और तलवार बाजी का मुकाबला था तब राजकुमार में कहा के आप ने कभी मुझे तलवार बाजी शिखाए नहीं में केसे .....गुरु ने कहा सब विद्या का मूल हे जागरूकता जब हिरा हाथमे हो तो फिर कंकड़ पत्थर का क्या काम ।

फ़िर मुकाबले में पहेली बार राजकुमार ने तलवार हाथमे ली और में वो जित गया


-----------------------------------------------------------------------------------




Your Ad Here

No comments:

Post a Comment

<!--Can't find substitution for tag [blog.pagetitle]-->